प्रतिरक्षा एवं रक्त समूह (Immunity and Blood Groups) PDF In Hindi


 प्रतिरक्षा एवं रक्त समूह (Immunity and Blood Groups)
नमस्कार दोस्तों ----
आप सब का स्वागत है www.mygknotes.com में।  दोस्तों डेली Current Affairs pdf और अन्य ढेर सारी pdf पाने के लिए जुड़े रहे हमारी वेबसाइट mygknotes.com से।  दोस्तों हमारी वेबसाइट से जुड़े रहने के लिए निचे दिए FOLLOW के बटन को दबाकर FOLLOW कर ले ताकि आपको हर pdf का Notification सबसे पहले मिले सके।  और दोस्तों हमारे द्वारा उपलब्ध की उचित जानकारी आपको अच्छी लगी तो आपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले। 
Gk Notes And Exam Paper In Hindi 👉 Click Here To Read
 Download Also ----
All Current Affairs PDF = Click Here To Download

प्रतिरक्षा एवं रक्त समूह (Immunity and Blood Groups) PDF In Hindi
 (1) प्रतिरोधक क्षमता-
मानव शरीर हर दिन अनेकों रोगाणुओं से उद्भासित होता रहता है परन्तु फिर भी यह बड़ी आसानी से रोगग्रस्त नहीं होता। इसका प्रमुख कारण रोगाणु उन्मूलन हेतु शरीर में उपस्थित प्रतिरोधक क्षमता है।

(2) प्रतिरक्षा विज्ञान-
रोगाणुओं के उन्मूलन हेतु शरीर में होने वाली  क्रियाओं तथा सम्बन्धित तंत्र के अध्ययन को प्रतिरक्षा विज्ञान कहा जाता है।

(3) प्रतिरक्षा विधियाँ दो प्रकार की होती हैं
(i) Fathifach urrait fafe (Innate defence mechanism)
(ii) उपार्जित प्रतिरक्षा विधि (Acquired defence mechanism)

(4) स्वाभाविक प्रतिरक्षा विधि के लिए निम्न कारक सहायक होते हैं
(i) भौतिक अवरोधक
(ii) रासायनिक अवरोधक
(iii) कोशिका अवरोधक
(iv) ज्वर, सूजन आदि।

(5) उपार्जित प्रतिरक्षा विधि-
यह अनुकूली अथवा विशिष्ट प्रतिरक्षा भी  कहलाती है। इस प्रकार की प्रतिरक्षा में एक पोषक किसी विशेष सभाजील अथवा बाह्य पदार्थ के प्रति अत्यन्त विशिष्ट प्रघात करता है। इसी प्रतिरक्षा में प्रतिरक्षियों का निर्माण किया जाता है।
यह प्रतिरक्षा दो प्रकार की
(i) सक्रिय प्रतिरक्षा
(ii) निष्क्रिय प्रतिरक्षा।

पतिजन (Antigen)-
वह बाहरी रोगाणु अथवा पदार्थ है जो शरीर | में प्रविष्ट होने के पश्चात् बी-लसिका कोशिका को प्रतिरक्षी | कोशिका में रूपान्तरित कर प्रतिरक्षी उत्पादन हेतु प्रेरित करता से उस ही प्रतिरक्षी से अभिक्रिया करता है।

(7) प्रतिरक्षी (Antibody)-
एक विशिष्ट गामा ग्लोबल प्रतिजन के साथ संयोजित हो सकते हैं। इनका निर्माण प्लाजा जाता है। प्रतिरक्षी में दो भारी दो ग्लाइकोप्रोटीन हल्की,
**********************
Dwanload Also :- 
नोट मानव तंत्र (Human System) की सम्पूर्ण जानकारी पाने के लिए pdf link की साहयता से pdf डाउनलोड करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले।  

Post a Comment

0 Comments